गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Monday, February 22, 2021

शिव राज में आदिवासी भाजपा विधानसभा प्रत्याशी के साथ जातिगत रूप से अपमानित कर खनिज माफियाओं ने की मारपीट

शिव राज में आदिवासी भाजपा विधानसभा प्रत्याशी के साथ जातिगत रूप से अपमानित कर खनिज माफियाओं ने की मारपीट

मारपीट व धमकाने वाले खनिज माफियाओं पर हुई बरघाट पुलिस थाना में एफआईआर दर्ज 

बरघाट विधानसभा के भाजपा प्रत्याशी नरेश वरकड़े ने पत्रकारवार्ता में उजागर किया खनिज माफियाओं की दंबगई 

उच्चाधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी नहीं होती कार्यवाही 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान माफियाओं को दो जमीन पर गाड़ देने की बात मंचों पर कर चुके है वहीं कानून व प्रशासनिक मीटिंग में अफसरों को माफियाओं पर सख्त कार्यवाही के निर्देश देते है लेकिन बरघाट विधानसभा क्षेत्र में खनिज रेत ठेकेदारों को भाजपा के राज में किसका संरक्षण है कि आखिरकार इनकी शिकायत भाजपा समर्थित क्षेत्रीय सरपंच भी कर रहे है तो उनकी सुनवाई नहीं हो पाती है। खनिज विभाग सिवनी ने तो इनके सामने घुटने ही टेक दिये है सीधे कहते है हम कार्यवाही नहीं कर सकते है। रेत ठेकेदार नियम विरूद्ध उत्खनन कर रहे है इसकी शिकायत कोई करता है तो मौके पहुंचने के बाद भी खनिज विभाग सिवनी मशीनों की जप्ती नहीं बनाता है कागजी कार्यवाही कर खनिज माफियाओं को संरक्षण देकर बढ़ावा देने का काम करता है। अब यह समझ नहीं आ रहा है कि खनिज रेत के मामले में नियम विरूद्ध करने वाले खनिज माफियाओं से सबसे ज्यादा भाजपा के नेता और पदाधिकारी परेशान है। कार्यवाही नहीं होने से मुख्यमंत्री की आदेशों निर्देशों व बातों को भी ठेंगा दिखाने जैसी स्थिति नजर आ रही है। वहीं भाजपा के बरघाट विधानसभा प्रत्याशी श्री नरेश बरकड़े द्वारा बरघाट व कुरई क्षेत्र में रेत खनन में नियम विरूद्ध कार्य किये जाने को लेकर सिवनी मुख्यालय में पत्रकारवार्ता में कार्यवाही की जानकारी भी दिया। उन्होंने कहा कि आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में खनिज माफियाओं के द्वारा दबंगता के साथ में नियम विरूद्ध रेत का उत्खनन किया जा रहा है। आदिवासियों के खेत-खलियान को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा है। 




सिवनी। गोंडवाना समय।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के सख्त निर्देश के बाद भी सिवनी जिले में माफियाओं के हौसले बुलंद है वहीं यदि कोई उनकी  शिकवा शिकायत करता है तो उन पर ही हमला करने के साथ पुलिस थाना में शिकायत देकर मामला बनवाने के लिये आवेदन देने में भी गुरेज नहीं कर रहे है। बरघाट विधानसभा के अंतर्गत आने वाली गोरखपुर हिर्री नदी में बरघाट विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी रहे नरेश वरकड़े के साथ मारपीट कर उन्हें धमकाने का प्रयास किया गया। इसके बाद नरेश वरकडे ने इस पूरे घटना की जानकारी बरघाट पुलिस थाना में दिया। बरघाट पुलिस द्वारा इस मामले में 4 आरोपियों के विरुद्ध एट्रोसिटी एक्ट सहित विभिन्न धाराओं के तहत मामला पंजीबद्ध किया गया।           

अंतिम संस्कार में गये तो ग्रामीणों ने दिया था अवैध उत्खनन की जानकारी 


जिला मुख्यालय में आयोजित पत्रकारवार्ता में श्री नरेश बरकड़े ने बताया कि जब वह 20 फरवरी 2021 को पूर्व सरपंच श्री डिमान सिंह भगत के पिता स्व श्री यादवराव भगत ग्राम अतरी का निधन होने पर उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए अपने कुछ साथियों के साथ गए हुए थे। इस दौरान उनके साथ मंडल अध्यक्ष श्री विजय राहंगडाले के अलावा और भी अन्य लोग मौजूद थे।
            जब श्री नरेश वरकड़े अंतिम संस्कार में गए तो उन्हें वहां के ग्रामीणों द्वारा बताया गया कि रेत ठेकेदार श्री अमित सूर्यवंशी के द्वारा लीज में ली गई खदान को छोड़कर अन्य जगह से भी अवैध रूप से रेत का उत्खनन किया जा रहा है। जानकारी मिलने पर श्री नरेश वरकड़े ने जाकर देखा कि नदी में पोकलेन मशीन से अवैध रूप से रेत का उत्खनन करते हुए डंफर में भरा जा रहा था तब मौके पर पहुंचे श्री नरेश बरकड़े ने मशीन रोकने के लिये कहा और इसकी सूचना तत्काल एसडीएम बरघाट व पुलिस थाना प्रभारी बरघाट को भी दिया। 

आदिवासी भाजपा प्रत्याशी के साथ किया मारपीट, पुलिस ने किया मामला दर्ज 

वहीं मौके पर मौजूद श्री विक्की सूर्यवंशी आक्रोशित हो गये और उन्होंने अपने साथी श्री अमित उर्फ शेरू सूर्यवंशी, श्री लवि उर्फ सिद्धार्थ राय के साथ मिलकर श्री नरेश वरकड़े के साथ विवाद करना शुरू कर दिया। यहां तक भाजपा के विधानसभा प्रत्याशी के साथ उनके द्वारा धक्का मुक्की भी किया गया जिससे वह रेत के ढेर पर गिर गये थे। धक्का-मुक्की व मारने पीटने के लिये उतारू होने पर वहां पर मौजूद लोगों ने श्री नरेश बरकड़े को बचाया।
        इस दौरान रेत ठेकेदार व उनके साथियों ने श्री नरेश बरकड़े को यहां तक कह दिया कि तुम कोई एसपी कलेक्टर हो जो तुम्हारे कहने पर हम काम रोकेंगे। वहीं त्वरित घटना की जानकारी श्री नरेश बरकड़े ने बरघाट पुलिस थाना को दिया तब पुलिस मौके पर पहुंची। वहीं घटना के बाद श्री नरेश वरकड़े पुलिस थाना बरघाट पहुंचे और घटना की जानकारी दिया। जांच के बाद पुलिस ने श्री अमित उर्फ शेरू सूर्यवंशी,  श्री विक्की सूर्यवंशी, श्री लवि उर्फ सिद्धार्थ राय एवं 1 अन्य के विरुद्ध धारा 294, 323 506, 34, 3(2) (व्ही ए), 3 (1) (द), 3 (1) (ध) के तहत मामला पंजीबद्ध करते हुए जांच में लिया है। 

आदिवासियों के खेत-खलियान कर रहे बर्बाद 

वहीं भाजपा के बरघाट विधानसभा प्रत्याशी श्री नरेश बरकड़े द्वारा बरघाट व कुरई क्षेत्र में रेत खनन में नियम विरूद्ध कार्य किये जाने को लेकर सिवनी मुख्यालय में पत्रकारवार्ता में कार्यवाही की जानका री भी दिया। उन्होंने कहा कि आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों में खनिज माफियाओं के द्वारा दबंगता के साथ में नियम विरूद्ध रेत का उत्खनन किया जा रहा है। आदिवासियों के खेत-खलियान को भी नुकसान पहुंचाया जा रहा है।
        पत्रकारवार्ता में श्री नरेश बरकड़े ने बताया कि रेत ठेकेदार श्री अमित सूर्यवंशी, श्री विक्की सूर्यवंशी के द्वारा लंबे समय से रेत का अवैध कारोबार किया जा रहा है। जिसे रोक पाने में खनिज विभाग सिवनी का अमला पूरी तरह से नाकाम है। वहीं इनके आपराधिक रिकार्ड की जानकारी भी पत्रकारवार्ता में बताया और इनकी दबंगई के कारण क्षेत्र के कई लोग परेशान हैं। क्षेत्र के ग्राम पंचायतों के जनप्रतिनिधियों व ग्रामीणो ंने भी कई बार संबंधित विभाग व उच्च अधिकारियों से भी शिकायत किया लेकिन कभी कोई कार्रवाई नहीं की गई। 

खनिज अधिकारी के संरक्षण में रेत माफियाओं के हौंसले बुलंद 

पत्रकारवार्ता में श्री नरेश बरकड़े ने जानकारी देते हुये कलेक्टर 21 फरवरी को दी गई शिकायती आवेदन भी दिया जिसमें उन्होंने उनके साथ हुये घटनाक्रम की विस्तार से जानकारी दिया। वहीं उन्होंने कलेक्टरको दी गई शिकायत में उल्लेख किया है कि बीते दिनों चिमनाखारी गाम में ग्रामीणों की मौजूदगी में पोकलेंड मशीन, मोटर वोट एवं डंफर की जप्ती की कार्यवाही को माईनिंग विभाग द्वारा शून्य कर कोई कार्यवाही नहीं की गई। बार-बार फोन करने के बाद जिला माईनिंग अधिकारी फोन रिसीव नहीं करती है। इसलिये रेत माफियाओं के हौंसले बुलंद है। 

शासन को पहुंचाया करोड़ों का राजस्व का नुकसान 

वहीं कलेक्टर को दी गई शिकायत में यह भी उल्लेख किया है कि रेत खदानों का विधिवत सीमांकन कर खदानों में बोर्ड लगाकर वैधानिक तरीके से रेत निकाली जाये। वहीं उन्होंने यह भी उल्लेख किया है कि लाखों घन मीटर का अवैध रूप से रेत निकासी की गई है। जिसक वैधानिक नाप होना चाहिये ताकि करोड़ों रूपये की शासन को पहुंचाई गई राजस्व की क्षति से बचाया जा सकें। रेत उत्खनन कर्ताओं के द्वारा शासन को करोड़ों का नुकसान पूर्व में और वर्तमान में पहुंचाया गया है। 

बावनथड़ी नदी व वन क्षेत्र से अवैध रेत उत्खनन में रोक लगाने की मांग 

पत्रकारवार्ता में कुरई क्षेत्र से आये ग्रामीणों ने बताया कि हमारे द्वारा शासन के उच्चाधिकारियों को शिकायत की गई कि ाावनथड़ी नदी व वन क्षेत्र से अवैध रेत उत्खनन में रोक लगाया जाये। जिसमें उन्होंने उल्लेख किया है कि बावनथड़ी नदी में अवैध रूप से पोकलैंड एवं जेसीबी मशीन द्वारा रात्रि में चोरी छिपे अफसरों प्रशासन की मिलीभगत से व गुंडागर्दी के बल से रेत का काला कारोबार जारी है।
        शासन द्वारा पूर्व में जो खदान स्वीकृत की गई थी वह समाप्त हो चुकी है व ठेकेदारों के द्वारा अन्यत्र की रायल्टी देकर अवैध रूप से रेत की चोरी कर परिवहन किया जा रहा है। जिसके कारण ग्राम में असमाजिक तत्वों का जमावड़ा व गुंडागर्दी जारी है। उन्होंने पूर्व में स्वीकृत रेत खदान का नाप कराकर अवैध रूप से उत्खनन रेत व अवैध डंप का राजस्व ठेकेदारों से वसूल करने की मांग करते हुये तत्काल अवैध रूप से रेत उत्खनन को रोके जाने की मांग किया है। 

No comments:

Post a Comment

Translate