Saturday, April 3, 2021

आत्महत्या करने पहुंचे चिखली सरपंच ने भ्रष्टाचार व लेनदारों को बताया जिम्मेदार

आत्महत्या करने पहुंचे चिखली सरपंच ने भ्रष्टाचार व लेनदारों को बताया जिम्मेदार 

चिखली सरपंच खेम सिंह ठाकुर ने ट्रेन की पटरी में लेटकर की आत्महत्या की कोशिश

विधायक, कलेक्टर, सचिव, पूर्व मंडल अध्यक्ष, जिला सीईओ, संभागीय कमिश्नर एवं शासन प्रशासन पर सरंक्षण का आरोप 

सिवनी/उगली। गोंडवाना समय।

जनपद पंचायत केवलारी की उपतहसील उगली से लगभग 2 किलोमीटर दूर ग्राम पंचायत चिखली के सरपंच जो कि ग्राम  खरपड़िया के निवासी हैं।


ग्राम पंचायत चिखली सरपंच श्री खेमसिंह ठाकुर ने अपनी जीवनलीला समाप्त करने का इरादा बनाकर खरपड़िया (उगली) से लगभग 15 किलोमीटर दूर चांगोटोला लामता के बीच का रेल्वे लाइन की पटरी के नीचे लेटकर आत्महत्या करने की कोशिश की है। आत्महत्या करने से पहले खेमसिंह ठाकुर अपनी लाइव फोटो और अपने शुभचिंतकों से मोबाइल में संपर्क कर अपनी व्यथा भी सुनाया है। 

आत्महत्या के प्रयास के लिये इनको ठहरा रहे जिम्मेदार 

आत्महत्या करने से पहले फोन पर आत्महत्या का कारण उगली क्षेत्र के भाजपा नेता, पूर्व कलेक्टर एवं वर्तमान कलेक्टर, केवलारी विधायक श्री राकेश पाल, पंचायत सचिव पप्पू गिरी गोस्वामी, पूर्व मंडल अध्यक्ष श्री त्रयम्बक शरण मिश्र एवं संभागीय कमिश्नर को अपनी आत्महत्या करने का प्रयास करने का कारण बताया है। 

भुगतान नहीं होने की वजह से प्रताड़ित करते हैं


सरपंच खेमसिंह ठाकुर ने बताया की मेरे सरपंची कार्यकाल में पंचायत में हुऐ विकास कार्यों का भुगतान शेष होने की वजह से लेनदार लोग हमेशा मुझे परेशान करते हैं, वर्तमान पंचायत के सचिव से अभी कुछ दिन पहले हुये विवाद के कारण इनके भुगतान में विलंब हो रहा है। जिसको लेकर दोनों पक्ष ने जनपद, जिला पंचायत के साथ-साथ संभागीय कमिश्नर को भी अवगत कराया गया है लेकिन आज दिन तक कोई वैधानिक कार्यवाही ना होने से सरपंच ने आत्महत्या करने का प्रयास करने के लिये कदम उठाने पर मजबूर हो गए।

उगली थाना प्रभारी एवं शुभचिंतकों ने बचाई सरपंच की जान

जैसे ही खेमसिंह ठाकुर के करिबयों को घटना की जानकारी लगी तो उगली थाना प्रभारी एवं अन्य शुभचिंतक खेमसिंह ठाकुर को ढूंढने निकल गए। पुलिस एवं अन्य साथियों की मदद से सरपंच खेमसिंह ठाकुर को सुरक्षित घर वापस लाया गया है लेकिन सरपंच खेम सिंह बहुत प्रताड़ित हैं, भविष्य मे वो किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। वो केवल न्याय चाह रहे हैं।

सरपंच के डोंगल का हो रहा है गलत उपयोग


चिखली सरपंच से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया मेरी डोंगल का गलत उपयोग हो रहा है। पूर्व में चिखली सचिव श्री पप्पू गिरी गोस्वामी द्वारा 8 सितंबर 2020 को 50,000 आहरित किया गया था। फिर कुछ दिनों बाद सचिन ने अपने खातिर पर 27,000 आरहित कर लिया था। जिसकी जानकारी चिखली सरपंच श्री खेमसिंह ठाकुर द्वारा जनपद पंचायत सीईओ केवलारी व जिला पंचायत सीईओ दी गई थी फिर भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। हम आपको बता दे कि ग्राम पंचायत चिखली के सरपंच के द्वारा पूर्व में डोंगल का उपयोग किये जाने को लेकर शिकायत दी गई थी जिसे दैनिक गोंडवान समय समाचात्र ने प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिस पर कार्यवाही फाईलों में कैद होकर रह गई है। 

डेढ़ वर्ष से कर रहे अनियमितता 

चिखली सरपंच खेमसिंह ठाकुर ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि मेरी डोंगल आईडी का पिछले डेढ़ सालों से गलत उपयोग हो रहा है। अभी कुछ दिन पहले मेरी डोंगल आईडी जप्त कर दी गई है। वहीं सरपंच खेमसिंह ठाकुर ने सचिव पप्पू गिरी गोस्वामी पर आरोप लगाते हुए कहा मकान टैक्स का 1 लाख 49 हजार रुपए भी सचिव श्री पप्पू गिरी गोस्वामी ने खा लिया और मेरे शिकायत करने पर भी कार्रवाई नहीं होती। विधायक, कलेक्टर,जनपद सीईओ, जिला सीईओ, एवं भाजपा के कुछ दिग्गज लोग सचिव पर कार्यवाही नहीं कर भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं।

विधायक पर संरक्षण का आरोप 


मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री और पंचायत मंत्री भोपाल में बैठकर कह रहे है कि शासन का पैसा ईमानदारी से खर्च होना चाहिये, विकास कार्याें व जनहित में लगाया जाना चाहिये लेकिन जिस तरह से कुछ पंचायतों में भ्रष्टाचार को संरक्षण दिया जाता है उसका उदाहरण केवलारी विधानसभा क्षेत्र का चिखली ग्राम पंचायत भी है। दिशा की बैठक मेें केवलारी विधायक ने आरईएएस विभाग पर भ्रष्टाचार को लेकर मुद्दा उठाया था लेकिन वहीं उनकी ही विधानसभा क्षेत्र के ग्राम पंचायत चिखली के सरपंच विधायक श्री राकेश पाल को भ्रष्टाचार को सरंक्षण देने का आरोप लगा रहे है। वहीं इस तरह की शिकायतों पर जनप्रतिनिधि व प्रशासन भी क्यों कार्यवाही नहीं कर रहा है। 

No comments:

Post a Comment

Translate