Saturday, May 8, 2021

कोरोना योद्धा नहीं तो काम, कलम एवं कार्यालय बंद करेंगे पंचायत सचिव व सहायक सचिव

कोरोना योद्धा नहीं तो काम, कलम एवं कार्यालय बंद करेंगे पंचायत सचिव व सहायक सचिव 

कोरोना योद्धाओं के नाम पर भी षड्यंत्र कर रहे हैं वरिष्ठ अधिकारी 

कोरोना योद्धाओं के नाम पर खेला जा रहा आंख मिचौली का खेल


सिवनी। गोंडवाना समय।

मध्य प्रदेश  पंचायत सचिवो एवं सहायक सचिवों ने अपनी समस्याओं का निराकरण 9 मई 2021 तक नहीं होने पर 10 मई 2021 से काम, कलम एवं कार्यालय बंद करने की बात करते हुये सिवनी कलेक्टर व जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी लखनादौन को पत्र लिखकर अवगत कराते हुये निवेदन किया है कि पंचायत ग्रामीण विकास विभाग द्वारा पंचायत सचिवों सहायक सचिवो समेत ग्रामीण विकास विभाग के जमीनी अमले को भयंकर महामारी कोरोना के दौरान जमीनी स्तर पर कार्यों को देखते हुए कोरोना योद्धा घोषित करने के लिए बीते 26 अप्रैल 2021 को जिला कलेक्टर को पंचायत सचिव/सहायक सचिव समेत ग्रामीण विकास विभाग के अमले को जिला वार कोरोना योद्धा के अंतर्गत पात्र कर्मी के आदेश जारी के निर्देश जारी किए गए हैं। इसके बावजूद प्रदेश भर से 10 से 12 आदेश निरस्त कर दिए गए हैं। प्राप्त जानकारी अनुसार आदेश निरस्त करने के लिए भोपाल स्तर से वीसी में निर्देश दिए गए हैं।

वरिष्ठ अधिकारी अपने परिवार के साथ एसी रूम में बैठकर हमें मौत के मुंह धकेल रहे

पंचायत सचिव संगठन के पदाधिकारियों ने बताय कि कोरोना महामारी के बीच ड्यूटी करते हुए मध्य प्रदेश में 50 से अधिक सचिव एवं सहायक सचिवो की मृत्यु हो चुकी है। इसके बावजूद अधिकारियों के द्वारा प्रदेश के 46 हजार सचिवो एवं सहायक सचिवो को कोरोना योद्धाओं के नाम पर आंख मिचौली की जा रही है। सुबह से शाम तक बिना सक्षम अधिकारी के लिखित ड्यूटी आदेश जारी किए जा रहे व्हाट्सएप मैसेज के माध्यम से काम कराया जा रहा है। प्रदेश भर के बड़े अधिकारी एसी रूम में अपने परिवार के साथ घर में आराम से बैठकर सचिव एवं सहायक सचिवों को मौत के मुंह में धकेल रहे हैं। इनता ही नहीं इसके साथ कोरोना योद्धाओं के नाम पर भी षड्यंत्र कर रहे हैं। 

ये बताये समस्याएं

पंचायत सचिव संगठन एवं रोजगार सहायक सचिव संगठन द्वारा संयुक्त रूप से निर्णय लिया गया है कि यदि 9 मई 2021 तक हमारी समस्याओं का निराकरण नहीं किया जाता है तो प्रदेश भर के सचिव एवं सहायक सचिव 10 मई 2021 से काम, कलम एवं कार्यालय बंद करके अपने परिवार की चिंता करते हुए अपने घर पर रहेंगे। कोरोना योद्धा नहीं तो काम नहीं के लिए बाध्य होंगे। जिसके लिए प्रशासन स्वय जिम्मेदार रहेगा। जिसमें शासन स्तर से कोरोना योद्धाओं के आदेश के नाम पर आंख मिचौली ना करते हुए स्पष्ट आदेश जारी किया जाए। प्रदेश भर में सचिव एवं सहायक सचिव व्हाट्सएप मैसेज से कोरोना संक्रमण के दौरान ड्यूटी कराई जा रही है एसडीएम स्तर के अधिकारी से आदेश जारी कराए जाए। आज दिनांक तक दिव्यांग हुए सचिवो एवं सहायक सचिव के परिजनों को तत्काल 50-50 लाख रुपए की  क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान किया जाए। 

No comments:

Post a Comment

Translate