Saturday, July 17, 2021

नेमावर हत्याकाण्ड के बहुत पहले ही गोंगपा ने भरी थी हुंकार, 18 जुलाई को न्याय यात्रा में जुटेंगे राष्ट्रीय, प्रातंीय, जिला के पदाधिकारी

नेमावर हत्याकाण्ड के बहुत पहले ही गोंगपा ने भरी थी हुंकार, 18 जुलाई को न्याय यात्रा में जुटेंगे राष्ट्रीय, प्रातंीय, जिला के पदाधिकारी   


देवास/नेमावर। गोंडवाना समय।

मध्य प्रदेश के देवास जिले के नेमावर पुलिस थाना में एक ही परिवार की गुमसुदगी के मामले को लेकर 5 आदिवासिों की हत्या होने के बहुत पहले नेमावर पुलिस व देवास पुलिस प्रशासन को गोंडवाना गणतंत्र पार्टी संदेह के साथ सचेत करती आ रही थी लेकिन डिजीटल क्रांति व तकनीकि युग में मध्य प्रदेश पुलिस के हाथ आरोपियों के हाथों व कारनामों से बहुत पीछे रह गई। इसका परिणाम यह हुआ कि नेमावर पुलिस थाना क्षेत्र में 5 आदिवासियों की हत्या के बाद उसके शव को निकालकर पुलिस ने इनाम प्राप्त किया।
        हालांकि आरोपियों को गिरफतार करने के बाद उसके ठोर-ठिकानों पर शासन व पुलिस प्रशासन ने ताबड़तोड़ कार्यवाही किया है।


वहीं इस हत्याकाण्ड को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा पूर्व मेें ही सीबीआई जांच की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा जा चुका है। देश व मध्य प्रदेश के अनेक जिलों व ब्लॉक स्तर में नेमावर हत्याकाण्ड की उच्च स्तरीय जांच की मांग के साथ आरोपियों का फांसी की सजा के मांग के साथ न्यायोचित मुआवजा दिये जाने को लेकर निरंतर ज्ञापन सौंपे जाने का सिलसिला अभी भी जारी है।
        वहीं दूसरी ओर मध्य प्रदेश सरकार नेमावर हत्याकाण्ड की सीबीआई जांच कराने के लिये कोई निर्णय नहीं ले रही है। गोंगपा द्वारा पूर्व में सौंपे गये ज्ञापन में अल्टीमेटम दिया गया था कि यदि 18 जुलाई के पहले ज्ञापन के बिंदुओं पर निर्णय नहीं लिया गया तो गोंडवाना गणतंत्र पार्टी राष्ट्रीय, प्रांतीय, जिला-ब्लॉक पदाधिकारियों की मौजूदगी में न्याय यात्रा निकालकर पीड़ितों को न्याय दिलाने की मांग करेंगी। इसी के तहत 18 जुलाई को नेमावर में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी न्याय यात्रा के तहत गोंगपा के पदाधिकारी जुटेंगे। 

5 जुलाई को गोंगपा ने किया था राष्ट्रव्यापी आंदोलन 

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कुंवर बलवीर सिंह तोमर के नेतृत्व में देवास जिले के नेमावर पुलिस थाना अंतर्गत एक ही परिवार के 5 आदिवासियों के अचानक घर से लापता हो जाने के मामले में गंभीरता से लेते हुये गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा हत्या का खुलासा होने के बहुत पहले ही मांग की जा रही थी। वहीं गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा नेमावर पुलिस थाना में 13 जून 2021 को रैली निकालकर ज्ञापन सौंपा गया था।
            


जिसमें पुलिस अधिकारियों के द्वारा पतासाजी करने के लिये प्रयास किया जा रहा है यह ज्ञापन सौंपने जाने वाले पदाधिकारियों को बताया गया था। इसके साथ ही कुंवर बलवीर सिंह तोमर के द्वारा वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को भी सूचना दिया गया था। इसके बाद भी पुलिस की कार्यवाही आरोपी की कारगुजारियों से पीछे ही रही। इसके बाद जब हत्याकाण्ड खुलासा हुआ तो 5 शव को 12 फिट गड्डे को खुदवाकर बाहर निकलवाया गया।                 वहीं हत्याकांड का खुलासा व शव मिलने के बाद पुलिस को इनाम व सम्मान दिये जाने की भी घोषणा की गई थी। वहीं गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा हत्या होने के बाद आरोपियों को पकड़ने व कड़ी कार्यवाही के लिये नेमावर में विरोध प्रदर्शन किया गया था। इसकी चिंगारी धीरे धीरे गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय, प्रांतीय, जिला व ब्लॉक स्तर तक पहुंच गई। इसके लिये बीते 5 जुलाई को गोंडवाना गणतंत्र पार्टी द्वारा राष्ट्रव्यापी आंदोलन कर ज्ञापन भी सौंपा गया था। 

राज्यपाल ने गोंगपा के ज्ञापन पर लिया था संज्ञान, शासन ने नहीं मानी मांग 

गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा 5 जुलाई 2021 को किये गये राष्ट्रव्यापी आंदोलन में पीड़ितों को न्याय, आरोपियों पर कड़ी कार्यवाही के साथ फांसी की सजा दिये जाने के साथ ही पीड़ित पक्ष को मुआवजा की मांग की गई थी। इसके साथ ही हत्याकांड की सीबीआई जांच कराये जाने की मांग की गई थी। ज्ञापन में 18 जुलाई के पूर्व सभी मांगों को माने जाने की बात कहीं गई थी अन्यथा न्याय यात्रा व राष्ट्रीय, प्रांतीय, जिला व ब्लॉक स्तर के पदाधिकारियों के मौजूदगी में कार्यक्रम करने की बात कहीं गई थी।
            गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के ज्ञापन पर महामहिम राज्यपाल ने संज्ञान लेकर कार्यवाही के लिये सामान्य प्रशासन विभाग की ओर प्रेषित किया था लेकिन मांग अनुरूप कार्यवाही नहीं हो पाई। इसको लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष तुलेश्वर सिंह मरकाम सहित अन्य राष्ट्रीय, प्रांतीय पदाधिकारी, जिला व ब्लॉक के पदाधिकारियों के द्वारा नेमावर में न्याय यात्रा रैली निकालकर पहुंचेंगे। गोंगपा की न्याययात्रा के दौरान नेमावर में शांति व्यवस्था कायम रखने के लिये शासन प्रशासन भी मुस्तैदी से जुटा हुआ है। 

No comments:

Post a Comment

Translate