Tuesday, October 19, 2021

4 दिन में तेंदूए ने 2 मातृशक्तियों को बनाया शिकार, क्षेत्र में दहशत बरकरार

4 दिन में तेंदूए ने 2 मातृशक्तियों को बनाया शिकार, क्षेत्र में दहशत बरकरार 

17 वर्षीय युवती के बाद फिर तेंदुए ने किया 48 वर्षीय महिला का शिकार

तेंदूए को पकड़ने वन विभाग कर रहा रात दिन की मशक्कत व प्रयास 


अजय नागेश्वर, संवाददाता 
सिवनी। गोंडवाना समय। 

मंगलवार सुबह करीब 11:30 बजे धान की फसल काटने गई महिला पर तेंदुए ने हमला कर दिया। तेंदुए के हमले से महिला की मृत्यू हो गई हमले के बाद तेंदुआ महिला के शव को घसीट कर पास ही स्थित दूसरे खेत में ले गया। इस दौरान आस-पास मौजूद अन्य महिलाओं व ग्रामीणों के शोर मचाने के बाद तेंदुआ जंगल की ओर भाग गया। इस हादसे के बाद से ग्रामीणों में खासा आक्रोश व्याप्त है।
          


 गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों से तेंदुए के हमले से हो रही मृत्यू को लेकर ग्रामवासियों में दहशत व्याप्त है। अब ग्रामीण कृषि कार्य के लिए गांव से दूर खेत में जाने वह समीपस्थ जंगल जाने में घबरा रहे हैं शाम होते ही लोग घरों में कैद हो जाते हैं। वहीं वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी तेंदूए को पिंजरा में कैद करने के लिये रात दिन मशक्कत व प्रयास कर रहे है। 

गांव में दहशत के साथ ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त 


वन विकास निगम बरघाट के केवलारी रेंज अंतर्गत गांव मोहगांव निवासी गजरोबाई पति उदल पंचेश्वर (48) गांव की 4 महिलाओं के साथ जंगल से लगे खेत में मंगलवार सुबह करीब 11:30 बजे धान की फसल काटने गई थी। इसी दौरान तेंदुए ने उस पर हमला कर दिया। कुछ दूर ले जाकर जब तेंदुआ महिला को अपना भोजन बना रहा था, उसी दौरान साथ में गई महिलाओं की नजर उस पर पड़ी। इसके बाद महिलाओं व अन्य ग्रामीणों ने शोर मचाया तो तेंदुआ भाग गया। घटना के बाद से जहां गांव में दहशत व्याप्त है, वही ग्रामीणों में आक्रोश भी बढ़ गया है।

वन विभाग का अमला भी तेंदुए को पकड़ने के लिए कर रहा प्रयास


जिले के दक्षिण सामान्य वनमंडल के कान्हीवाड़ा वन परिक्षेत्र के पांडीवाड़ा गांव से लगे जंगल में 16 अक्टूबर की दोपहर पिता जंगलू के साथ मवेशी चराने गई 17 वर्षीय किशोरी रवीना की तेंदुए ने हमला किया था, जिससे उसकी मृत्यू हो गई थी। तेंदुआ किशोरी को दबोचकर करीब डेढ़ सौ मीटर दूर पहाड़ी क्षेत्र में ले गया था। गांव से करीब 3 किमी दूर पहाड़ी क्षेत्र के जंगल में बेटी रवीना के साथ चरवाहा पिता जंगलू मवेशियों को चराने जंगल गया था।                 इसी दौरान किशोरी को दबोचकर तेंदुआ कुछ दूर ले गया था। पीछा करते हुए पिता जंगलू ने डंडा पटक कर खूंखार तेंदुए के चंगुल से बेटी को बचाने का प्रयास किया था, इस दौरान तेंदुए ने पिता पर भी झपटने का प्रयास किया था। इसके बाद बड़ी संख्या एकत्रित होकर ग्रामीण मौके पर पहुंचे थे। ग्रामीणों का कहना है कि आस-पास के क्षेत्र में तेंदुए का आतंक बढ़ता ही जा रहा है, वहीं वन विभाग का अमला भी तेंदुए को पकड़ने के लिए प्रयास कर रहा है लेकिन सफलता नहीं मिल पा रही है। 

No comments:

Post a Comment

Translate