Sunday, October 17, 2021

75 दिनों तक चलने वाला बस्तर दशहरा पर्व सामाजिक समसरता के अनुपम उदाहरणों से से एक है

75 दिनों तक चलने वाला बस्तर दशहरा पर्व सामाजिक समसरता के अनुपम उदाहरणों से से एक है

कुम्हड़ाकोट में नवाखाई पर्व में शामिल हुई राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके

दोना में नये चावल से बने अन्न खा कर नवाखाई रस्म में सहभागिता निभाई


रायपुर। गोंडवाना समय। 

राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके अपने बस्तर प्रवास के दौरान विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा पर्व के बाहर रैनी रस्म के अंतर्गत कुम्हड़ाकोट में आयोजित नवाखाई पर्व में शामिल हुईं। उन्होंने कुम्हड़ाकोट जगदलपुर में बस्तर के माटी पुजारी कमलचंद भंजदेव एवं उनके परिजनों के साथ देवी-देवताओं की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना के बाद सिंगार लाड़ी में बैठकर दोना में नये चावल से बने अन्न खा कर नवाखाई रस्म में सहभागिता निभाई। 

राज्यपाल ने देवी से प्रदेश की खुशहाली की कामना की


छत्तीसगढ़ राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके ने विश्व प्रसिद्ध बस्तर दशहरा उत्सव के अवसर पर कुमार कोर्ट ग्राम में मां दंतेश्वरी की बस्तर के महाराजा के साथ पूजा अर्चना की और नवाखाई पर्व पर प्रसाद ग्रहण किया। इसके उपरांत देवी को वापस मंदिर में ले आने की प्रथा का निर्वहन किया जाएगा। राज्यपाल द्वारा देवी से प्रदेश की खुशहाली की कामना की है। 

माड़िया समुदाय द्वारा रथ को वापस राजमहल पहुंचा दिया जाता है


उल्लेखनीय है कि 75 दिनों तक चलने वाला बस्तर दशहरा पर्व सामाजिक समसरता के अनुपम उदाहरणों से से एक है। इस महापर्व को बस्तर के विभिन्न समुदायों की सहभागिता से निभाया जाता रहा है। किलेपाल क्षेत्र के माड़िया जनजाति द्वारा परंपरा के अनुसार प्रतिवर्ष विजय रथ को चुराकर कुम्हड़ाकोट में रखा जाता है रथ को खोजे जाने के बाद राजपरिवार पूरे लाव-लश्कर के साथ कुम्हड़ाकोट पहुंचता है। यहां राजपरिवार द्वारा रथ की वापसी के लिए मान-मनौव्वल किया जाता है। माड़िया समुदाय द्वारा इसके लिए साथ मिलकर नवाखाई की शर्त रखी जाती है, जिसे राजपरिवार द्वारा सहर्ष स्वीकार कर लिया जाता है। फिर यहां नवाखाई की रस्म धूमधाम के साथ पूरी करने पर माड़िया समुदाय द्वारा रथ को वापस राजमहल पहुंचा दिया जाता है।

इस दौरान ये रहे मौजूद 

इस दौरान राजमाता कृष्णा कुमारी देवी एवं उनके परिजनों के अलावा बस्तर सांसद एवं बस्तर दशहरा समिति के अध्यक्ष श्री दीपक बैज, संसदीय सचिव श्री रेखचंद जैन, दन्तेवाड़ा विधायक श्रीमती देवती कर्मा, संभाग आयुक्त श्री जीआर चुरेन्द्र, आईजी श्री सुंदरराज पी., मुख्य वन संरक्षक श्री मोहम्मद शाहिद, कलेक्टर श्री रजत बंसल, पुलिस अधीक्षक श्री जितेंद्र मीणा सहित जनप्रतिनिधियों एवं दशहरा समिति से जुड़े लोगों के अलावा बढ़ी संख्या में आम नागरिकगण उपस्थित थे।


No comments:

Post a Comment

Translate