Tuesday, November 23, 2021

अधीक्षक सोमवती तेकाम तथाकथित षडयंत्रकारियों की दौलत कमाने की भूख से कन्या शिक्षा परिसर की छात्राओं के मुंह से पोष्टिक भोजन का छिन गया निवाला

अधीक्षक सोमवती तेकाम तथाकथित षडयंत्रकारियों की दौलत कमाने की भूख से कन्या शिक्षा परिसर की छात्राओं के मुंह से पोष्टिक भोजन का छिन गया निवाला 

अन्नपूर्णा केटर्स द्वारा ही भोजन खिलाये जाने के लिये कन्या शिक्षा परिसर की छात्राओं ने सिवनी विधायक सहित प्रशासन की मांग 


सिवनी। गोंडवाना समय।

जैसा की सभी जानते है कि सिवनी जिले के विकास को रोकने में षडयंत्रकारियों की बड़ी भूमिका है। वैसे भी षडयंत्रकारियों की फितरत ही होती है कि अच्छा काम होते देख उसे बिगाड़ना, उसमें बाधा डालना जिसमें वे प्रारंभिक रूप में भले ही सफल हो जाये लेकिन उसके दूरगामी परिणाम दु:खद व अफसोसजनक ही आते है।
            ऐसा ही एक मामला कन्या शिक्षा परिसर में छात्राओं को भोजन खिलाने की आड़ में दौलत कमाने की भूख और तथाकथित षडयंत्रकारियों की फितरत के रूप में सामने आया है। इनकी मिलीभगत से कन्या शिक्षा परिसर की छात्रायें पोष्टिक भोजन के स्वाद से वंचित हो गई है। 

सोमवती तेकाम को अधीक्षक की जिम्मेदारी नहीं भोजन बनाकर खिलाने में है अधिक दिलचस्पी क्यों ?


कन्या शिक्षा परिसर में अधीक्षक सोमवती तेकाम के द्वारा पूर्व में बनाकर खिलाये जाने वाले भोजन के स्वाद से परेशान छात्राओं ने जनजाति विकास विभाग के अधिकारियों से अन्नपूर्णा केटर्स जो कि पूर्व में भी भोजन बनाकर खिलाते थे, उन्हीं केटर्स के द्वारा भोजन खिलाने के लिये एकमत होकर निवेदन किया था जिस आधार पर विभाग द्वारा अन्नपूर्णा केटर्स को भोजन बनाने का कार्य दिया गया था।
            

जिस पर सबसे ज्यादा आपत्ति अधीक्षक सोमवती तेकाम और सिवनी जिला मुख्यालय के कुछ तथाकथित षडयंत्रकारियों को थी उनके द्वारा षडयंत्र रचकर मिलीभगत करते हुये ठेकेदार द्वारा दूषित भोजन बनाकर खिलाने का दुष्प्रचार किया गया।  इसके बाद कुछ छात्राएं बीमार हुई तो उन्हें आॅटो में लाते समय षडयंत्रकारियों की मिलीभगत से समझाया सिखाया गया कि अस्पताल में क्या बताना है। वहीं सोमवती तेकाम को छात्राओं की जिम्मेदारी के रूप में अधीक्षक की जिम्मेदारी दी गई है लेकिन उन्हें अधीक्षक के कार्य से ज्यादा भोजन बनवाने और खिलवाने में दिलचस्पी है भले ही भोजन स्वाद अनुसार एवं मीनु अनुसार न खिलाये।
        भोजन कार्य की आड़ में अधीक्षक सोमवती तेकात और उनके साथ मिलीभगत करने वाले षडयंत्रकारियों को क्या लाभ है ये तो वे ही अच्छी तरह से जानते है लेकिन इतना भी है कि अधीक्षक सोमवती तेकाम और षडयंत्रकारियों की मिलीभगत षडयंत्रकारियों के कारण कन्या शिक्षा परिषर की छात्राओं को पोष्टिक भोजन का निवाला जरूर छिन गया है, वहीं षडयंत्रकारियों की दौलत की भूख भी पूरी हो गई है। 

ठेकेदार की छबी धूमिल करने का तथाकथितों ने मिलकर किया षडयंत्र 

बीते दिवस सिवनी जिला मुख्यालय में स्थित कन्या शिक्षा परिसर की कुछ बालिकाएं को बीमार होने के कारण जिला चिकित्सालय सिवनी में भर्ती कराया गया था। भर्ती कराये जाने के बाद कन्या शिक्षा परिसर में भोजन को लेकर दुष्प्रचार करते हुये दूषित भोजन का प्रचार-प्रसार किया गया।
        इस मामले में दैनिक गोंडवाना समय संपादक तक कन्या शिक्षा परिसर में अध्ययन कर रही बेटियों ने सच का साथ देते हुये जानकारी पहुंचाया कि कन्या शिक्षा परिसर में मेडम द्वारा खिलाये जाने वाले भोजन की तुलना में ठेकेदार व टेंडर के माध्यम से खिलाये जाने वाला भोजन अच्छा है। इस संबंध में छात्राओं का यह भी कहना है कि कन्या शिक्षा परिसर में भोजन को लेकर सच बोलने के बाद उन्हें शासन-प्रशासन से सुरक्षा भी दिलाई जाये क्योंकि कन्या शिक्षा परिसर में कुछ मेडम है जो उन्हें सच बोलने से रोकती है। वहीं सवाल यह उठता है कि यदि दूषित भोजन था तो सिर्फ 11 बच्चियां ही क्यों बीमार हुई बाकी की बच्चियां क्यों स्वस्थ्य थी। 

ठेकेदार, टेंडर से मिलने वाले भोजन में सबने उठाया हाथ

हम आपको बता दे कि दैनिक गोंडवाना समय संपादक तक कन्या शिक्षा परिसर की बेटियों के द्वारा पहुंचाई गई जानकारी में वीडियों में कन्या शिक्षा परिसर की बेटियां यह स्पष्ट कहती नजर आ रही है कि वे ठेकेदार व टेंडर से मिलने वाले भोजन से संतुष्ट है।
            इसके लिये कन्या शिक्षा परिसर की बेटियों ने ठेकेदार, टेंडर व मेडम के द्वारा दिये जाने वाले भोजन को लेकर सभी छात्रायें से हाथ भी उठवाया। जिसमें छात्रायें ने एक स्वर में एकमतेन होकर ठेकेदार व टेंडर में मिलने वाले भोजन के पक्ष में उठाया वहीं मेडम द्वारा दिये वाले भोजन के संबंध में छात्राओं में से किसी ने भी हाथ नहीं उठाया आखिर क्यों ?

सिवनी विधायक दिनेश राय मुनमुन से छात्राएं ने की बात 


कन्या शिक्षा परिसर की छात्राओं ने ठेकेदार द्वारा बनाये जाने वाले भोजन को जहां अच्छा बताया एवं दूषित भोजन के दुष्प्रचार को सिर से खारिज कर दिया। वहीं छात्राओं ने ठेकेदार का टेंडर का निरस्त होने की जानकारी मिलने पर नाराजगी जाहिर करते हुये सिवनी विधायक से चर्चा कर समस्या से अवगत कराते हुये कहा कि चाचा जी हमें टेंडर व ठेकेदार द्वारा दिया जाने वाला भोजन ही खाना है।
        इस संबंध में आप हमारी समस्या का समाधान करें तो सिवनी विधायक ने उन्हें बताया कि मैं अभी भोपाल में हूं दो दिन बाद आऊंगा तो आपकी समस्या का समाधान करूंगा। छात्राओं ने विधायक को चाचा जी संबोधित करते हुये स्पष्ट कहा कि हमें अधीक्षक मेडम द्वारा खिलाया जाने वाला भोजन बिल्कुल नहीं खाना है। 

ठेकेदार को सामान ले जाने देने से छात्राओं ने रोका


हम आपको बता दे कि अधीक्षक सोमवती तेकाम और तथाकथित षडयंत्रकारियों की मिलीभगत से दुष्प्रचार के बाद सहायक आयुक्त द्वारा कार्यवाही करते हुये अन्नपूर्णा केटर्स का टेंडर निरस्त कर दिये जाने की जानकारी जब कन्या शिक्षा परिसर की छात्राओं को मिली वहीं जब अन्नपूर्णा केटर्स के संचालक भोजन बनाने की सामग्री लेने जब कन्या परिसर के मेस स्थल पर पहुंचे तो वहां पर कन्या परिसर की छात्राओं ने अन्नपूर्णा केटर्स के संचालक को भोजन बनाने की सामग्री वापस ले जाने से रोकते हुये स्पष्ट कह दिया कि हमें आपके द्वारा बनाया गया भोजन ही खाना है, इसलिये हम आपको सामान नहीं ले जाने देंगे। 

No comments:

Post a Comment

Translate