Friday, December 24, 2021

गुरुकुल से व्यक्तित्व का विकास होने के साथ ये जीवन संस्कार का उद्गम स्थल है

गुरुकुल से व्यक्तित्व का विकास होने के साथ ये जीवन संस्कार का उद्गम स्थल है

परासिया शास.उच्च.माध्य. स्कूल में बच्चों को शिक्षा, संस्कार, खेल, कला के क्षेत्र में दिया मार्गदर्शन 

सृजन बहूद्देशीय सामजिक संस्था द्वारा स्वेटर, कापी एवं स्कूल बैग का किया गया वितरण 


सिवनी। गोंडवाना समय। 

विकासखंड सिवनी के अन्तर्गत शासकीय उच्च. माध्य. विद्यालय ग्राम परासिया में सृजन बहूद्देशीय सामाजिक संस्था द्वारा ग्रामीण क्षेत्र के बच्चो को स्नेह और दुलार के साथ हितग्राही बच्चो को नि:शुल्क स्वेटर, कापी और आवश्यक बच्चो को स्कूल बैग वितरित किया गया।


इस अवसर पर शामिल मुख्य रूप से सुषमा राय अध्यक्ष सृजन बहूद्देशीय सामजिक संस्था, सामाजिक कार्यकर्ता लक्ष्मी कश्यप संयोजक प्राचीन श्री हनुमान घाट जीर्णोद्धार एवं सौंदर्यकरण समिति, संजय शर्मा सचिव जिला एथलेटिक संघ व संस्था की संगीता ठाकरे, एड. सरिता राय, शशि सिंह, मंजू ठाकरे, बीना सिंह, भारती अवधिया, विभूति जैन, उषा चौधरी मुख्य रूप से उपस्थित रही। 

्रग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के बीच ऐसे आयोजन से स्नेह भाव को मिलेगी प्रबलता       


इस अवसर पर शालाएं परंपरा अनुसार सभी आगंतुकों द्वारा मां सरस्वती जी कि छात्राओ द्वारा वंदन आरती के साथ सभी ने पूजन अर्चना की और सभी के सम्मान कार्यक्रम किया गया। तदुउपरांत बच्चो द्वारा रंगा रंग लोक संस्कृति से जुड़े गीतो की प्रस्तुति दी गई। इसके उपरांत सभी हितग्राही छात्र-छात्राओ को सामग्री वितरित की गई। इस अवसर पर संबोधित करते हुए सुषमा राय ने कहा कि नगरो-शहरो पर ऐसी गतिविधि होती रहती है जो प्रशंसनीय है परंतु हमने विचार किया कि नगर से दूर ग्रामीण अंचलों के स्कूलो में इस तरह कार्यक्रम होना चाहिए जिससे उनके प्रति सभी का स्नेह भाव को प्रबलता मिलेगी। 

कबाड़ से जुगाड़ अभियान में हम देंगे मार्गदर्शन 


सामजिक कार्यकर्ता लक्ष्मी कश्यप ने कहा कि ग्राम सौंदर्यीकरण एवं स्वच्छता अभियान के अंतर्गत अपने घर, आसपास और अपने स्कूल को स्वच्छ बनने हेतु आगे आए और घर पर जो भी बेकार जो खराब है, उसको कबाड़ से जुगाड़ अभियान के माध्यम से उसमे रंग रोहन, फूल फुलवारी लगाए और सुंदर परिवेश बनाए, उनको हम समय समय पर मार्गदर्शन एवं सहयोग देंगे। इसके साथ ही गुरुकुल से जीवन के व्यक्तित्व का विकास होता होता है, ये जीवन संस्कार का उद्गम स्थल है, जो पवित्र है। शिक्षा गुरुकुल से ही बड़े होकर राजनेता, अधिकारी, समाज सेवा, व्यापारी व योग्य नागरीक बनते है। इसलिए शिक्षको का सम्मान व उनके द्वारा बताये गये मार्गदर्शन पर चलकर अपने कर्तव्य का पालन कर शिक्षाग्रहण धर्य और लगन से करना चाहिए। 

खेल के प्रति मार्गदर्शन और सहयोग दिया जायगा


इस अवसर पर एड. सरिता राय ने कहा कि ऐसे स्थल पर आकर बच्चों के बीच में पहुंंचकर मैं कृतज्ञ हू। वहीं ऐसे रचनात्मक कार्य से जुड़कर आप लोगो बीच आकर स्नेह और दुलार करने का अवसर मिला। इसके उपरांत उन्होने संस्था की सामजिक गतिविधि से अवगत कराकर सहयोग की पहल किया। इस अवसर पर संजय शर्मा सचिव ने खेल के प्रति प्रोत्साहित किया और जिन बच्चो को जिस खेल मे रूचि हो आगे आए और आगे बढ़े उनको हर प्रकार का उस खेल के प्रति मार्गदर्शन और सहयोग दिया जायेगा। इस एक दिवसीय आयोजन मे स्कूल प्राचार्य चिरौंजे, ग्राम पटेल ठाकुर रोहित सिह, आत्मपूज्य, कल्पना राय, संतोष राय, गजभिये, सिँजोतिया, धुर्वे, उपाध्याय, सी. एल. उइके, विनोद साहू, गोपाल सिह उइके एवं संगीता ठाकरे शाला परिवार व छात्र-छात्राओ कि गरिमामय उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment

Translate