Sunday, January 30, 2022

झाबुआ पॉवर प्लांट के ठेकेदार के गुण्डों का कहर जारी, बैगा आदिवासी को न्याय की आवाज उठाने वाले संतोष उईके की जान लेने की कोशिश नाकाम

झाबुआ पॉवर प्लांट के ठेकेदार के गुण्डों का कहर जारी, बैगा आदिवासी को न्याय की आवाज उठाने वाले संतोष उईके की जान लेने की कोशिश नाकाम 

जयस जिला अध्यक्ष इंजिनियर संतोष उईके की जान लेने की कोशिश के दौरान दोपहिया वाहन पर चढ़ा दिये डंफर

जयस संरक्षक विधायक डॉ हीरालाल अलावा क्यों है मौन 

वीडियों में देखे कैसे दोपहिया वाहन पर चढ़ा दिया डंफर 

सिवनी/घंसौर। गोंडवाना समय।

झाबुआ पॉवर प्लांट में मानव, पशु पक्षी व पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली कैमीकल युक्त कोयले की राख व अन्य सामग्री को झाबुआ पॉवर प्लांट से बाहर फैंकने के लिये ठेका लेने वाले ठेकेदार के द्वारा अनेकों ग्रामीणों को धीमा जहर से तो परोस ही रहा है।
        


इसके साथ में 26 दिसंबर 2021 को ठेकेदार के गुण्डों के द्वारा विशेष संरक्षित बैगा जनजाति सदस्य आदिवासी किसान श्री रूपलाल पुड़िया के बेरहमी से मारपीट कर हाथ पैर तोड़ दिया था। जिसकी रिपोर्ट घंसौर पुलिस ने लगभग 13 दिन बाद लिखी थी।

वहीं बैगा जनजाति के सदस्य श्री रूपलाल पुड़िया को न्याय व उपचार दिलाने के लिये जयस जिला अध्यक्ष इंजिनियर संतोष उईके द्वारा आवाज उठाई जा रही है। इसके साथ क्षेत्रीय ग्रामीणों व किसानों को झाबुआ पॉवर प्लांट व ठेकेदार के द्वारा किये जा रहे शोषण, अन्याय, अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाई जा रही है।
            

बीते 29 जनवरी 2022 को जब क्षेत्रिय किसानों की फसल को सिंचाई के लिये बने सरोरा बांध का पानी को झाबुआ पॉवर प्लांट के ठेकेदार के द्वारा रोक लिया गया है उसे सिंचाई हेतु दिलाये जाने के लिये ग्रामीणों के साथ आवाज उठाई जा रही थी उसी दौरान इंजिनियर संतोष उईके पर झाबुआ पॉवर प्लांट के ठेकेदार के गुण्डों के द्वारा डंफर वाहन से इंजिनियर संतोष उईके की जान लेने की कोशिश की गई जिसमें वह नाकाम रहे लेकिन इंजिनियर संतोष उईके के दोपहिया वाहन पर डंफर वाहन चढ़ाकर उसके चकनाचूर कर क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। 

किसानों को सरोरा बांध का पानी सिंचाई के लिये मांग करने के दौरान हमला कर दोपहिया वाहन किया क्षतिग्रस्त 


जयस जिला अध्यक्ष इंजिनियर संतोष उईके ने गोंडवाना समय को जानकारी देते हुये बताया कि पीड़ित बैगा आदिवासी किसान श्री रूपलाल पुड़िया ग्राम कुर्मीठेल का  झाबुआ पावर प्लांट का कैमिकल युक्त कोयले की डस्ट को फैंकने का ठैका लेने वाले  गिरीराज एसोसियेट्स कंपनी के ठेकेदार के गुण्डों के द्वारा हाथ पैर तोड़ दिये गये हैं उसको उचित न्याय दिलवाने के लिये एवं कंपनी के ठेकेदार के द्वारा कचरा, डस्ट से पूरी तरह से प्रभावित बैगा आदिवासी किसान भाइयों की जमीन पर हो रहे अतिक्रमण पर उचित मुआवजा दिलवाने के लिये, सरोरा बाँध का पानी मुख्य धारा नदी से पूरी तरह से लगभग 15-20 गाँव के किसानों को सिचाई से आत्मनिर्भर हैं उक्त पानी की मुख्य धारा बीच नदी में हल्की बाँध बनाकर पानी रोक रखे है।

वहीं सिंचाई के लिये नदी का पानी दूसरी तरफ छोड़ने के लिये जयस सिवनी ने 29 जनवरी 2022 को धरना प्रदर्शन करने पर गिरीराज एसोसियेट्स कंपनी के ठेकेदार के गुण्डों व हायवा डंफर क्रमांक एमपी-20एचबी 7384 के गुण्डों

ड्राइवर द्वारा डम्फर चलाकर जयस जिला अध्यक्ष सिवनी इंजी.संतोष उइके को जान से मारने का पूरी रणनीति के तहत जान लेवा हमला करते हुये डम्फर चलाकर दोपहिया वाहन होंडा को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। 

आदिवासियों के मसीहा बताने वाले जयस संरक्षक, कांग्रेस विधायक डॉ हीरालाल अलावा क्यों है मौन ?


हम आपको बता दे कि पांचवी अनुसूचि क्षेत्र में स्थापित झाबुआ पॉवर प्लांट व वहां पर लाभ कमाने वाले ठेकेदारों की मनमानी, शोषण, अन्याय, अत्याचार के  िखलाफ स्थानीय राजनैतिक दल मौन साधे हुये है या उनकी मनमानी का खुलकर साथ दे रहे है। वहीं जय आदिवासी युवा शक्ति जयस के द्वारा आदिवासी व ग्रामीणों को शोषण, अन्याय, अत्याचार से मुक्त कराने के लिये जयस जिला अध्यक्ष इंजिनियर संतोष उईके आवाज उठा रहे है। वहीं जयस के राष्ट्रीय संरक्षक, अपने आपको आदिवासियों का मसीहा बताने वाले, आदिवासी समाज की आवाज उठाने की बात करने वाले अपने ही संगठन के पदाधिकारी का साथ नहीं दे रहे है। जयस संरक्षक डॉ हीरालाल अलावा के संगठन के जिला अध्यक्ष इंजिनियर संतोष उईके खुलकर आदिवासियों के लिये आवाज उठा रहे है लेकिन उनके संगठन के मुखिया जयस संरक्षक डॉ हीरालाल अलावा साथ नहीं दे रहे है। छोटी छीटी सी समस्याओं पर राष्ट्रपति, राज्यपाल, मुख्यमंत्री को पत्र लिखने वाले जयस संरक्षक डॉ हीरालाल अलावा अपने ही संगठन के जिला अध्यक्ष पर होने वाले अत्याचार के मामले में मौन साधे हुये है। इस मामले में यह चर्चा चल रही है कि उक्त क्षेत्र कांग्रेस विधायक होने के कारण वह आवाज नहीं उठा रहे है क्योंकि वे जयस का नहीं का नहीं कांग्रेस पार्टी का साथ देकर अपना कर्तव्य निभा रहे है। 

मुख्यमंत्री के राज में आदिवासियों को न्याय की उम्मीद नहीं 


हम आपको बता दे कि झाबुआ पॉवर प्लांट व वहां पर लाभ कमाने वाले ठेकेदारों के शोषण, अन्याय, अत्याचार व मनमानी पर रोक लगा पाना स्थानीय शासन प्रशासन की बस की बात नहीं है क्योंकि विशेष संरक्षित बैगा जनजाति सदस्य के हाथ पैर तोड़ने वालों पर 13 दिन बाद एफआईआर दर्ज की गई थी। किसान पुत्र मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के राज में आदिवासी व किसानों पर खुलेआम झाबुआ पॉवर प्लांट व वहां पर लाभ कमाने वाले ठेकेदार अन्याय, अत्यचार, शोषण कर रहे है। किसानों को सिंचाई के लिये पानी देने से वंचित किया जा रहा है इसके बाद भी मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह के अफसर किसानों व क्षेत्रिय ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान करने की वजाय ठेकेदार का साथ दे रहे है। क्षेत्रिय ग्रामीणों व किसानों का कहना है कि किसान पुत्र मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान सरकार से उन्हें न्याय की उम्मीद नहीं है। 


No comments:

Post a Comment

Translate