Friday, May 13, 2022

भाजपा नेताओं ने खातेगांव थाना प्रभारी के समक्ष थाना परिसर में आदिवासी युवक की बर्बरता के साथ की पिटाई

भाजपा नेताओं ने खातेगांव थाना प्रभारी के समक्ष थाना परिसर में आदिवासी युवक की बर्बरता के साथ की पिटाई 

जयस युवा पहुँचे पुलिस अधीक्षक कार्यालय, दिया 8 दिनों का अल्टीमेटम

जयस प्रतिनिधि दल ने पुलिस अधीक्षक से जांचकर आरोपियों पर सख्त कार्यवाही की रखी मांग


खातेगांव/देवास। गोंडवाना समय। 

विगत दिनों खातेगांव थाना परिसर में जयस के रामदेव काकोड़िया को पुलिस द्वारा थाने पर बुलाकर थाना परिसर में ही थाना प्रभारी के समक्ष ही मारपीट करने के मामले ने तुल पकड़ लिया है। थाना प्रभारी खातेगांव के कक्ष में मौजूद कथावाचक पंडित प्रदीप मिश्रा के समर्थकों द्वारा मॉब लिंचिंग का प्रयास करते हुए बीस लोगो द्वारा बर्बरतापूर्वक थाना प्रभारी की मौजूदगी में मारपीट की गई। इसी मुद्दे को लेकर जयस प्रतिनिधि दल जयस राष्ट्रीय प्रभारी इंजी लोकेश मुजाल्दा, जयस नारी शक्ति राष्ट्रीय प्रभारी श्रीमती सीमा वास्कले जयस व भीम आर्मी के साथी पीड़ित को लेकर पुलिस अधीक्षक देवास के पास पहुँचे और लिखित शिकायत करते हुए रामदेव काकोड़िया, राहुल बरवार ने पूरा घटनाक्रम पुलिस अधीक्षक को बताया। 

आदिवासी सभी धर्म का करते सम्मान 


इसके साथ ही खातेगांव थाना प्रभारी को तत्काल बर्खास्त कर थाना परिसर में मॉब लिंचिंग करने वाले लोगों के खिलाफ नामजद शिकायत आवदेन दिया गया, सात दिन के अंदर कारवाई नही होने पर खातेगांव में आंदोलन की चेतावनी दी गई है। इस मौके पर जयस, भीम आर्मी, ओबीसी महासभा के लोग मौजूद रहे। जयस राष्ट्रीय प्रभारी इंजी लोकेश मुजाल्दा ने कहा कि आदिवासी समुदाय शांतिप्रिय अहिंसक निसर्गवादी होते हैं, वह सभी धर्म संप्रदाय के लोगों का सम्मान करते हैं। 

पुलिस की मौजूदगी में मारपीट दुर्भाग्यपूर्ण है

वहीं आदिवासी समाज भारतीय संविधान में विश्वास रखते हैं। आदिवासियों के परिपेक्ष्य में संवैधानिक प्रावधानों तथा माननीय सुप्रीम कोर्ट के महत्वपूर्ण निर्णयों के बावजूद धरती के मूलबीज मूलवंश आदिवासी समुदाय के लोगों के साथ पुलिस की मौजूदगी में मारपीट दुर्भाग्यपूर्ण है। कांग्रेस और बीजेपी दोनों पार्टियां आदिवासी हितेषी होने का ढोंग करते है। पूरे मध्यप्रदेश में आदिवासियों पर शोषण और अत्याचार बढ़ता ही जा रहा है। हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं। भविष्य में ऐसी घटना ना दोहराई जाए इसलिए दोषियों के विरुद्ध कड़ी कारवाई की मांग की गई। इस अवसर पर डॉ आनंद राय, अनिल बरला, राकेश देवड़े, रवि गामड़, अजय कन्नौजे, मनोज मुजाल्दे, दीक्षा उईके, तारसिंह जाधव, रवि रावत जयस, भीम आर्मी, ओबीसी महासभा के लोग मौजूद रहे। 

No comments:

Post a Comment

Translate