Thursday, May 30, 2019

विश्‍व पर्यावरण दिवस पर कई आयोजन करने की तैयारी

विश्‍व पर्यावरण दिवस पर कई आयोजन करने की तैयारी  

वायु प्रदूषण पर तैयार विशेष गीत हवा आने दे हुआ रिलीज 

नई दिल्ली। गोंडवाना समय। 
विश्‍व पर्यावरण दिवस हर वर्ष 5 जून को मनाया जाता है। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय दरअसल यूएनईपी द्वारा घोषित विशेष थीम पर फोकस करते हुए विश्‍व पर्यावरण दिवस मनाता है। इसके साथ ही मंत्रालय इस अवसर पर कई कार्यक्रम आयोजित करता है। इस वर्ष की थीम है वायु प्रदूषण। इससे जुड़ी परम्‍परा को ध्‍यान में रखते हुए इस वर्ष मुख्‍य कार्यक्रम 5 जून, 2019 को विज्ञान भवन में आयोजित किया जाएगा और इसकी अध्‍यक्षता पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री करेंगे। इस अवसर पर आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रमों में ये शामिल हैं, पर्यावरण पर फिल्‍म प्रतिस्‍पर्धा का शुभारंभ किया जाएगा। कई पुस्‍तकों का विमोचन किया जाएगा और वायु प्रदूषण, अपशिष्‍ट प्रबंधन एवं वन : द ग्रीन लंग्स आॅफ सिटीज पर तीन विषयगत सत्र आयोजित किये जाएंगे। विश्‍व पर्यावरण दिवस देश भर में राज्‍यों की राजधानियों और अन्‍य शहरों में भी मनाया जाएगा। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में सचिव श्री सी.के.मिश्रा ने नई दिल्‍ली में इस वर्ष की थीम पर आधारित गीत की लांचिंग की। इस अवसर पर इस थीम गीत से जुड़े कलाकार भी मौजूद थे। सचिव श्री सी.के. मिश्रा ने इस अवसर पर कहा कि इस गीत में हमारे मौजूदा समय की पर्यावरण चुनौतियों से निपटने के लिए सभी से एकजुट होने का आहवान किया गया है और इसके साथ ही हम सभी से वायु की गुणवत्‍ता बेहतर करने तथा हमारे देश व शहरों को कम प्रदूषित बनाने में मददगार हरित प्रौद्योगिकियों एवं उपायों को तलाशने का अनुरोध किया गया है।

राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम (एनसीएपी) शुरू किया

उल्‍लेखनीय है कि वायु प्रदूषण की समस्‍या से निपटने के लिए पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने हाल ही में राष्‍ट्रीय स्‍वच्‍छ वायु कार्यक्रम (एनसीएपी) शुरू किया है। यह एक मध्‍यमकालिक पंचवर्षीय कार्ययोजना है । जिसमें 102 शहरों में पीएम 2.5 और पीएम 10 (सूक्ष्‍म धूल कण) के स्‍तर में 20-30 प्रतिशत की उल्‍लेखनीय कमी करने के लक्ष्‍य रखे गये हैं। इन 102 शहरों में से 84 शहरों ने अपनी-अपनी कार्य योजनाएं पहले ही पेश कर दी हैं। एनसीएपी का मुख्‍य उद्देश्‍य देश भर में वायु प्रदूषण को नियंत्रण में रखते हुए उसमें उल्‍लेखनीय कमी सुनिश्चित करना है। यह एक बहु-क्षेत्रवार (सेक्‍टोरल) एवं सहयोगात्‍मक दृष्टिकोण है, जिसमें इसे मुख्‍यधारा में लाने और एकीकरण पर ध्‍यान केन्द्रित किया गया है। पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने मुम्‍बई स्थित भामला फाउंडेशन के सहयोग से इस वर्ष के विश्‍व पर्यावरण दिवस की थीम पर विशेष गीत तैयार किया है। मशहूर हस्तियों और प्रभावशाली व्‍यक्तियों से युक्‍त इस गीत हवा आने दे का उद्देश्‍य वायु प्रदूषण से जुड़े संदेश का प्रचार-प्रसार करना है। इस थीम गीत को श्री स्‍वानंद किरकिरे ने लिखा है और इसे श्री शान्‍तनु मुखर्जी, कपिल शर्मा, सुनिधि चौहान एवं शंकर महादेवन ने सुरों में पिरोया है। इस फिल्‍म का निर्देशन श्री रोमांचक अरोड़ा द्वारा किया गया है।

No comments:

Post a Comment

Translate