Sunday, February 9, 2020

मंत्री मरकाम ने बालाघाट के अधिकारियों को पढ़ाया जिम्मेदारी का पाठ

मंत्री मरकाम ने बालाघाट के अधिकारियों को पढ़ाया जिम्मेदारी का पाठ

फूटी टंकी देखकर बोले बहुत बढ़िया तो मुख्यमंत्री का बोर्ड कचरे में पड़ा था

बालाघाट। गोंडवाना समय। 
बालाघाट प्रवास के दौरान मध्य प्रदेश शासन के आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के अंतर्गत हो रहे निमार्ण कार्यों की गुणवत्ता सहित आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का भी औचक निरीक्षण किया। इस दौरान आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का एक एक कोना और छत पर जाकर पानी व आसपास की साफ सफाई को देखा जहां उन्होंने आदिवासी विकास विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों सहित छात्रावास के जिम्मेदारों को मानवता-जिम्मेदारी-जवाबदारी का पाठ पढ़ाया। 

यही आलू बच्चो को खिलाते हो 

आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करते हुये आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने सब्जी की हालत को देखते हुये कहा कि शुद्ध के लिये युद्ध अभियान में इनकी जांच कराये जाने की आवश्यकता है वहीं मौजूद अधिकारियों व अधीक्षकों को कहा कि यही आलू बच्चों को खिलाते हो क्या, ऐसी व्यवस्था में सुधार लाईये। 

टायलेट की हालत देख लो और बदूबू कितनी आ रही है 

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में स्थिति देखा तो वह आश्चर्यचकित रह गये उन्होंने जब गंदगी युक्त टायलेट देखा तो अधिकारियों को कहा कि टायलेट की हालत देख लो और बदबू कितनी आ रही है। ऐसे कैसे काम करने वाले हो आप लोग स्वच्छता का रखने के निर्देश दिये। 

रूम की जगह धूम रानी दुर्गावती लिखा था

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में जब कमरों की ओर रूख किया तो वहां पर एक कमरे में ऊपर अंग्रेजी में धूम रानी दुर्गावती लिखा हुआ था जिसे मंत्री ने भी पढ़ा और कहा धूम रानी दुर्गावती ये क्या है, वहीं जब अंदर गये तो वहां पर देखा की बिजली के बोर्ड खुले पड़े है एवं अव्यवस्थित नजारा देखकर उन्होंने सुव्यवस्था के निर्देश अधिकारियों को दिये। 

मच्छर आ रहे अंदर

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में जब खिड़कियों को देखा तो वहां पर टूट फूटे पल्ले एवं बिना जाली की खिड़की पर उन्होंने कहा कि यहां से मच्छर अंदर आते होंगे जो बच्चों को स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डालते होंगे यह समझने की बात है इस पर सुधार करें। 

फूटी टंकी देखकर मंत्री बोले बहुत बढ़िया 

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में एक एक कोना छानने के बाद और अव्यवस्था का आलम हर जगह पाये जाने के बाद जब वे छत के ऊपर पहुंचे तो वहां पर छत पर चढ़ने के बाद सबसे पहली नजर
उनकी फूटी फटी हुई पानी की टंकी पर पड़ी तो मंत्री ने तत्काल अधिकारियों को कहा कि बहुत बढ़िया व्यवस्था है।
वहीं छत के ऊपर के कपड़े सुखाने के लिये रस्सी तक की व्यवस्था प्रबंधन नहीं कर पाया बच्चों के धुले हुये कपड़े छत के ऊपर वैसे ही सूख रहे थे। वहीं एक अन्य ओर टंकी भी लिकेज थी जिस पर सुधार करने के निर्देश मंत्री ने अधिकारियों को दिये।

थोड़ी तो मानवता रखो और जिम्मेदारी निभाओं

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में जब छत के ऊपर जाकर मंत्री ने नीचे व आसपास के परिसर का नजारा देखा तो जहां तहां गंदगी का अंबार लगा हुआ था और गाजर घास से परिसर सजा हुआ था जिस पर मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने अधिकारियों को कहा कि यहां पर सब्जी ऊगाई जा सकती है, फल-फूल लगाये जा सकते है।
इसके साथ ही मंत्री ने अधिकारी व कर्मचारियों से कहा कि कुछ तो मानवता रखो और जिम्मेदारी से काम करो। वहीं अधिकारियों के द्वारा निर्माण कार्य की कमी को बताया तो मंत्री ने कहा कि अभी बच्चों का परीक्षा का अवसर है वह समय लौटकर नहीं आयेगा इसलिये उनकी पढ़ाई व परीक्षा की तैयारी के साथ यहां की व्यवस्था पर जवाबदारी के साथ ध्यान दिया जाये जहां तक निर्माण कार्यों का सवाल है वह सब पूर्ण किया जायेगा।

कचराखाना में रखा हुआ है मुख्यमंत्री का बोर्ड

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में जब छत का निरीक्षण करने के बाद मंत्री श्री ओमकार मरकाम नीचे आने लगे तो उन्होंने सीढ़ियों के आसपास ही गंदगीयुक्त कचरा रखा हुआ था वहीं पर विभाग से संबंधित योजनाओं का बोर्ड भी रखा हुआ था जिस पर मंत्री ने कहा कि यह प्रचार-प्रसार का बोर्ड है और इसमें मुख्यमंत्री कमल नाथ की फोटो लगी हुई है। सी एम साहब की ब्रांडिंग होना चाहिये तो वह कचरा खाना में पड़ा हुआ है। इस संबंध में निर्देश दिये। 

मंत्री ने कहा करेंगे मदद

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों व परिसर के जिम्मेदारों के साथ में जब मंत्री वापस हो रहे थे तो उन्होंने परिसर में काम करने वाली दो युवतियों को देखा जिन्होंने रोते हुये अपना रोजगार छिनने का दुखड़ा सुनाया जिस पर मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने कहा कि कमल नाथ जी की सरकार आदिवासियों के हित में काम कर रही है और मुझे कमल नाथ जी ने मंत्री बनाया है इसलिये मैं यहां पर आया हूं वहीं इनकी समस्या का समाधान करने के लिये मंत्री श्री ओमकार मरकाम अधिकारियों का निर्देश दिये। 

28 करोड़ की लागत से हो रहे निर्माण कार्य का किया निरीक्षण 

बालाघाट जिले में आदिवासी कन्या शिक्षा परिसर का निरीक्षण करने पहुंचे आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार मरकाम ने आदिम जाति कल्याण विभाग के अंतर्गत बालाघाट में 28 करोड़ की लागत से निमार्णाधीन कन्या शिक्षा परिसर का निरिक्षण भी किया एवं संबंधित अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिये।

No comments:

Post a Comment

Translate