Sunday, March 8, 2020

डीपीसी कार्यालय में शराब की बोतले! मीडिया को भनक लगते ही साफ-सफाई

डीपीसी कार्यालय में शराब की बोतले! मीडिया को भनक लगते ही साफ-सफाई

मैदान पर नहीं कार्यालय के अंदर खड्डे में छुपाकर रखी हुई थी अंग्रेजी की खाली बोतले

सिवनी। गोंडवाना समय। 
सरकारी कार्यालयों में शराबखोरी का खेल चल रहा है। कुछेक बाहरी तत्व शराब का अड्डा बनाए हुए हैं तो कुछेक कार्यालय के कर्मचारी ही दफ्तर को मयखाना बनाए हुए हैं। ऐसा ही मुख्यालय से तीन किलोमीटर दूर जिला पंचायत के ठीक सामने स्थित डीपीसी कार्यालय में शराबखोरी की जा रही है। हालांकि उस सरकारी कार्यालय में जनअभियान परिषद का कार्यालय भी संचालित हो रहा है जिसमें कौन कर्मचारी कार्यालय में शराबखोरी कर रहे हैं यह कहा नही जा सकता है लेकिन जो भी कर्मचारी हो सरकारी आॅफिस की गरिमा को खराब कर रहे हैं।

गांधीजी की बालपोथी से भरे कार्टून पर छिपाकर रखे थे शराब की बोतलें-

गुरूवार 05 फरवरी को गोंडवाना समय की टीम जब डीपीसी कार्यालय पहुंची तो पीछे वाले प्रवेश द्वार जहां से जनअभियान परिषद कार्यालय के लिए ऊपर जाते हैं सीढ़ी के किनारे गांधीजी की बालपोथी पुस्तकों से भरा हुआ कार्टून रखा हुआ था। कुछेक पुस्तके बाहर धूल खा रही थी। बालपोथी से भरे हुए कार्टून पर जब नजर छोड़ाई गई तो अंग्रेजी शराब की एक प्लास्टिक की और दूसरी कांच की बोतलें रखी हुई थी जो शराब की थी।
इस मामले को लेकर जब डीपीसी कार्यालय के कर्मचारियों से बात की गई तो वे कोई जवाब नहीं दे पाए और मुहं छिपाते रहे। वहीं इस मामले को लेकर डीपीसी जेके इड़पाचे को भी फोन लगाया गया लेकिन वे परीक्षा के चलते कोई जवाब नहीं दे पाए। शनिवार 7 मार्च को कार्यालय से गांधीजी की बालपोथी से भरा हुआ कार्टून ही हटा दिया गया है जिससे साफ जाहिर होता है कि इससे पहले किरकिरी हो जाए और वरिष्ठ अधिकारी संज्ञान ले उसे साफ कर दिया गया है।

No comments:

Post a Comment

Translate