गोंडवाना समय

Gondwana Samay

गोंडवाना समय

Gondwana Samay

Saturday, January 16, 2021

गुमतरा परिक्षेत्र में नर व्यस्क नर बाघ मृत, पोस्टमार्टम में सभी अंग सुरक्षित मिले

गुमतरा परिक्षेत्र में नर व्यस्क नर बाघ मृत, पोस्टमार्टम में सभी अंग सुरक्षित मिले 

पेंच टाइगर रिजर्व के गुमतरा परिक्षेत्र के कक्ष क्रमांक 1465 व 1467 की सीमा पर मृत मिला बाघ 


सिवनी। गोंडवाना समय।

पेंच टाइगर रिजर्व के गुमतरा परिक्षेत्र के कर्मचारियों के द्वारा 14 जनवरी 2021 को वनगश्ती के दौरान कक्ष क्रमांक 1465 एवं 1467 की सीमा पर जप्ती खापा नाला के पास लगभग 2.30 बजे एक व्यस्क नर बाघ मृत पाया गया। तत्काल इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। घटना की सूचना भोपाल मुख्यालय, कलेक्टर छिन्दवाड़ा, पुलिस अधीक्षक छिन्दवाड़ा तथा राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के अधिकारियों को दी गई। 

सघन जांच में किसी भी तरह की अप्रिय स्थिति नहीं पायी गई


उक्त जानकारी देते हुये श्री एम. बी. सिरसैया, भा.व.से., उप संचालक, पेंच टाइगर रिजर्व सिवनी (म.प्र.) ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि सूचना मिलने पर मौके स्थल पर वन अधिकारी श्री एम. बी. सिरसैया, उप संचालक पेंच टाइगर रिजर्व सिवनी, श्रीमति भारती ठाकरे सहायक वन संरक्षक छिंदवाड़ा क्षेत्र, श्री एस. एस. कलवेलिया परिक्षेत्र अधिकारी गुमतरा, डॉक्टर  अखिलेश मिश्रा वन्य प्राणी पशु चिकित्सक, डॉग स्क्वाड दल, राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के प्रतिनिधि श्री रजत ठानेकर एवं श्री राजेश भेंडारकर तथा अन्य कर्मचारी घटनास्थल पर पहुचे। आसपास के क्षेत्र को सूक्ष्मता से जांच की गई। डॉग स्क्वाड दल की मदद से 1 कि.मी. के क्षेत्र में सघन जांच की गई, किसी भी तरह की अप्रिय स्थिति नहीं पायी गई। 

अवयवों को प्रयोगशाला अन्वेषण हेतु संरक्षित किया गया

वहीं अंधेरा होने के कारण पोस्टमार्टम की कार्यवाही वन्यप्राणी चिकित्सक के द्वारा 15 जनवरी 2021 को की गयी। इसके साथ ही राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के द्वारा निर्धारित एस. ओ. पी. के अनुसार उप संचालक, सहायक वन संरक्षक (छिंदवाड़ा क्षेत्र) एवं अन्य वन अधिकारियों तथा राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण, नई दिल्ली के प्रतिनिधि श्री रजत ठानेकर एवं श्री राजेश भेंडारकर की उपस्थिति में पोस्टमार्टम वन्यप्राणी चिकित्सक डॉ. अखिलेश मिश्रा के द्वारा किया गया। पोस्ट मार्टम के दौरान सभी अंग सुरक्षित पाये गये एवं अवयवों को प्रयोगशाला अन्वेषण हेतु संरक्षित किया गया। शव को राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के नियमानुसार मुख्य वन संरक्षक छिन्दवाड़ा की उपस्थिति में वन अधिकारियों तथा राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण के प्रतिनिधि श्री रजत ठानेकर एवं श्री राजेश भेंडारकर की उपस्थिति में शवदाह किया गया। 


No comments:

Post a Comment

Translate