Thursday, May 13, 2021

बण्डोल पुलिस ने 90 लीटर कच्ची शराब पकड़कर लाकडाउन के उल्लंघन पर की कार्यवाही

बण्डोल पुलिस ने 90 लीटर कच्ची शराब पकड़कर लाकडाउन के उल्लंघन पर की कार्यवाही 


सिवनी। गोंडवाना समय। 

पुलिस अधीक्षक श्रीमान कुमार प्रतीक द्वारा कोरोना संक्रमण को देखते हुये सिवनी जिले के समस्त पुलिस थाना प्रभारियों को अपने थाना क्षेत्र में लाकडाउन का पालन करवाने एवं अवैध गतिविधियों की रोकथाम हेतु प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये है। बण्डोल पुलिस थाना प्रभारी श्री दिलीप पंचेश्वर द्वारा अपने अधिनस्थ कर्मचारियों की मॉनिटंरिंग करते हुये कोरोना संक्रमण की स्थिति से अवगत करवाकर अपनी एवं अपने परिवार की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुये निरंतर थाना क्षेत्र में शांति व्यवस्था कायम करने के लिये कर्तव्य निभाया जा रहा है। 

6 जरिकेन में भरी कुल 90 लीटर कच्ची महुआ की शराब पाई गई

बण्डोल पुलिस को 13 मई 2021 को मुखबिर के माध्यम से सूचना मिली थी कि मीना मोहल्ला बण्डोल में सुरेश पिता बाबू सिंह ठाकुर अपने पास अत्याधिक मात्रा में महुआ शराब रखा हुआ है। इसकी सूचना मिलने पर बण्डोल पुलिस थाना प्रभारी श्री दिलीप पंचेश्वर के द्वारा वरिष्ठ अधिकारी एसडीओपी सुश्री पारूल शर्मा के निर्देशन में टीम का गठन कर मौके पर दबिश दी गई जहां सुरेश ठाकुर के कब्जे से 6 जरिकेन में भरी कुल 90 लीटर कच्ची महुआ की शराब पाई गई। 

शराब दुकान बंद होने से बीते 1 सप्ताह पहले शुरू किया था शराब निकालना 

बण्डोल पुलिस द्वारा 90 लीटर कच्ची महुआ शराब की जप्तीपत्रक बनाकर जप्त किया गया। इसके साथ ही धारा 34 (2) आबकारी एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया जाकर लाकडाउन का उल्लंघन पर धारा 188 जाफो का ईजाफा किया गया। वहीं आरोपी सुरेश ठाकुर उम्र वर्ष निवासी बण्डोल को गिरफतार किया गया। वहीं आरोपी सुरेश ठाकुर ने पूछताछ पर बण्डोल पुलिस को बताया कि लाकडाउन होने से शराब दुकान बंद है एवं लोग शराब पीने के लिये इधर-उधर भटक रहे थे तो मेरे द्वारा विगत 1 सप्ताह से स्व्यं की द्वारा ही नदी में महआ की कच्ची शराब निकालकर बेचा जा रहा था।

कार्यवाही में इनका सराहनीय योगदान 

उक्त कार्यवाही में बण्डोल पुलिस थाना प्रभारी श्री दिलीप पंचेश्वर, डी पी श्रीवास्त्री सहायक उप निरीक्षक, कार्यवाहक प्रधान आरक्षक अमर सिंह उईके, आरक्षक नितेश धुर्वे, आरक्षक विश्राम धुर्वे, आरक्षक राजेश सरयाम, महिला आरक्षक कुसुमलता का योगदान सराहनीय रहा। 

No comments:

Post a Comment

Translate