Wednesday, June 9, 2021

ओबीसी जनगणना का मुद्दा ट्वीटर पर ट्रेंड : 65 हजार लोगों ने दिया समर्थन

ओबीसी जनगणना का मुद्दा ट्वीटर पर ट्रेंड : 65 हजार लोगों ने दिया समर्थन 

ट्वीटर ट्रेंड देखकर उन्हें समझ लेना चाहिए कि ओबीसी समाज जाग गया है


सिवनी। गोंडवाना समय।

ओबीसी महासभा द्वारा लंबे समय से जनगणना फार्मेट में ओबीसी का कॉलम बनवाने जद्दोजहद की जा रही है लेकिन अड़ियल सरकार द्वारा ओबीसी समाज की लगातार उपेक्षा की जा रही है। सरकार को ओबीसी समाज की भावनाओं से अवगत कराने के लिए ओबीसी महासभा द्वारा मंगलवार को ट्वीटर पर जनगणना में ओबीसी कालम लागू करो हेशटैग से अभियान चलाया गया। जिसे देश के अन्य पिछड़े वर्ग के सभी संगठनों द्वारा भरपूर समर्थन मिला। 

देश की सरकारों को ओबीसी समाज की जरुरतों को समझना चाहिए

वहीं जिला सिवनी ओबीसी महासभा द्वारा इस अभियान में हिस्सा लिया गया। परिणाम यह हुआ कि वह हेशटैग ट्रेंड हो गया। लगभग 65 हजार ट्वीट व रिट्वीट इस हेशटैग पर हुए। ओबीसी महासभा जिला संयोजक लोकेश साहू द्वारा इस मुद्दे का समर्थन करने वाले सभी भाई-बहनों का आभार व्यक्त किया गया है। ओबीसी महासभा जिला प्रवक्ता श्री योगेश सूर्यवंशी ने उक्ताशय की जानकारी देते हुए कहा कि देश की सरकारों को ओबीसी समाज की जरुरतों को समझना चाहिए और जनगणना फार्मेट में ओबीसी का कॉलम बनाने की घोषणा करना चाहिए। यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो ओबीसी समाज का राजनीति से ही विश्वास उठ जायेगा और वह उग्र आंदोलन के तरफ बढ़ सकता है। 

अनेक सांसद व मंत्री ओबीसी जनगणना कराये जाने के पक्ष में हैं

ओबीसी महासभा जिला प्रवक्ता श्री योगेश सूर्यवंशी ने आगे बताया कि राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग द्वारा भी आँकड़ों के अभाव में काम करने में आ रही दिक्कतों से सरकार से अवगत करा दिया है। सरकार में भी अनेक सांसद व मंत्री ओबीसी जनगणना कराये जाने के पक्ष में हैं। तत्कालीन गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह ने जनगणना अधिकारियों की मीटिंग लेने के उपरांत 2018 में जनगणना फार्मेट में ओबीसी का कॉलम बनाने की बात कही थी लेकिन कुछेक प्रभावशाली नेता ओबीसी विरोधी मानसिकता के कारण ओबीसी वर्ग की जनगणना नहीं कराना चाहते। उन्होंने कहा कि यह ट्वीटर ट्रेंड देखकर उन्हें समझ लेना चाहिए कि अब ओबीसी समाज पुराना ओबीसी समाज नहीं रहा, वह जाग गया है।

No comments:

Post a Comment

Translate