Sunday, December 19, 2021

ओबीसी समाज धरना, प्रदर्शन व रैली निकालकर मांग रहे है संवैधानिक अधिकार, चारामा में जन सभा में उमड़ा जनसैलाब

ओबीसी समाज धरना, प्रदर्शन व रैली निकालकर मांग रहे है संवैधानिक अधिकार, चारामा में जन सभा में उमड़ा जनसैलाब


दुर्गाप्रसाद ठाकुर, प्रदेश संवाददाता
चारामा/छत्तीसगढ़। गोंडवाना समय।

सर्व पिछड़ा वर्ग समाज द्वारा ओबीसी आरक्षण 27 फीसदी किए जाने सहित 6 विभिन्न मांगों को लेकर ओबीसी सर्व समाज की ऐतेहासिक जन सभाअधिकार रैली स्थानीय वीर नारायण स्टेडियम में आयोजित किया गया। जनसभा में सर्व पिछड़ा वर्ग समाज के प्रमुखों ने अपने अपने विचार रखे, वहीं सभा के बाद नगर में ऐतेहासिक रैली का आयोजन किया गया, जिसमें ग्रामीण क्षेत्रों के रहवासी ज्यादा मौजूद रहे।

ओबीसी समाज की रैली के कारण चारामा के कोर में कई घंटो रही चक्का जाम जैसे स्थिति


रैली स्टेडियम निकल कर कोरर चौक दीनदयाल उपाध्याय चौक से राम जानकी मंदिर चौक पर चक्काजाम कर दिया गया। सर्व पिछड़ा वर्ग समाज द्वारा राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौपने को लेकर चक्काजाम स्थल पर कलेक्टर को ज्ञापन सौपने को लेकर अड़े हुए थे। स्थानीय प्रशासन ने बताया कि कलेक्टर जिले के बाहर है यह बताने के बाद किसी उच्च अधिकारी को ज्ञापन सौपा जाएगा यह कहा गया तब तक शाम 5 बजे तक चक्का जाम की स्थिति बनी रही, अन्तत: चारामा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा नगर के कोरर चौक में भी चक्का जाम रहा।

राज्य और केंद्र सरकार से ओबीसी समाज की ये रही प्रमुख मांगें


ओबीसी समाज की 6 प्रमुख मांगे हैं, जिससे प्रमुख रूप से छत्तीसगढ़ राज्य पिछड़ा वर्ग के 52 प्रतिशत आबादी के आधार पर 27 प्रतिशत आरक्षण छत्तीसगढ़ राज्य पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग स्वतंत्र मंत्रालय की स्थापना। पिछड़ा वर्ग को परंपरागत वनवासी होनो के नाते पाँचवी अनुसूची में शामिल किया जाये।

राज्य के त्रिस्तरीय पंचायत व्यवस्था में भारत के जनसंख्या गणना के आधार पर जिन ग्राम पंचायतों में पिछड़ा वर्ग के बाहुल्यता है, वहाँ ऐसे ग्राम पंचायतों में पिछड़ा वर्ग के सरपंच पद आरक्षण किया जाए। छत्तीसगढ़ सरकार एवं भारत सरकार द्वारा प्रथमिक शिक्छा से लेकर कॉलेज की पढ़ाई हेतु संचालित सभी आश्रम छात्रावास में पिछड़ा वर्ग के छात्र छात्राओं के लिए स्वत: आरक्षण और छात्र वित्तीय एक समान किया जाए ।पिछड़ा वर्ग परम्परागत वन वासियों को वन अधिकार मान्यता पत्र में लंबित है उसे तत्काल प्रदाय किया जाए। 

विभिन्न जिले के सामाजिक पदाधिकारी आंदोलन में रहे मौजूद


ओबीसी समाज की जनसभा में शामिल होने पिछड़ा वर्ग समाज के आह्वान पर कांकेर जिले के दुगूर्कोंदल, नरहारपुर, अंतागढ़, कोयलीबेड़ा, भानुप्रतापपुर अन्य जिले बालोद के दल्ली राजहरा, कोंडागांव, धमतरी, सहित विभिन्न स्थानों से बड़ी संख्या में महिला पुरूष शामिल हुए।नगर में सुबह से पिछड़ा वर्ग के युवा लोगों ने मोटरसाइकिल रैली निकाल कर नगर के व्यापारी को अपनी प्रतिष्ठान बंद कर सहयोग की अपील करते देखा गया, जिससे नगर पूरी तरह से पिछड़ा वर्ग की मांगों के समथन में बंद रहा। पिछड़ा वर्ग समाज के रैली में भीड़ की संख्या को देखने लोगों की सड़क के दोनों ओर भारी भीड़ रही वहीं प्रशासन की टीम पूरी तरह मुस्तैद रही।

No comments:

Post a Comment

Translate