Wednesday, November 30, 2022

गौरीशंकर बिसेन प्रधानमंत्री के खिलाफ जाकर केंद्र सरकार की योजना पर उठा रहे ऊंगली-सांसद ढाल सिंह बिसेन

गौरीशंकर बिसेन प्रधानमंत्री के खिलाफ जाकर केंद्र सरकार की योजना पर उठा रहे ऊंगली-सांसद ढाल सिंह बिसेन 

बालाघाट में ज्यादा घाट ही घाट है इसलिये उसका नाम बालाघाट है लेकिन सिवनी के लोग भी सभी होशियार है

विधायक गौरीशंकर बिसेन के द्वारा सार्वजनिक रूप से आरोप लगाने के बाद सांसद ढाल सिंह बिसेन ने कहीं ये बातें


सिवनी। गोंडवाना समय। 

भारतीय जनता पार्टी की केंद्र और मध्यप्रदेश में भी सरकार है लेकिन इसके बाद भी सत्ताधारी दल के सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन की पीढ़ा बेहद दु:खदायी है क्योंकि उनकी बात न तो कलेक्टर सुन रहे है और न ही कोई सीईओ व अन्य अधिकारी तव्वजों दे रहे है। बालाघाट में प्रशासन दबाव में काम करता है, मैं जबकि विपक्ष में भी विधायक रहा हूं लेकिन ऐसी परिस्थिति कभी नहीं आई है।
                 


बीते दिनों बालाघाट में विधायक गौरीशंकर बिसेन के द्वारा बालाघाट सिवनी के सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन को खुले मंच में डांट फटकार लगाते हुये टेंकर व यात्री प्रतिक्षालय में मुनाफा कमाने का आरोप लगाया था। वहीं कलेक्टर पर आरोप लगाने के पहले विचार कर लेना चाहिये इस तरह की अनेक बाते कहते हुये यहां तक कह दिया था कि अब ढाल सिंह बिसेन यहां के सासंद नहीं रहेंगे कमल फूल वाला ओर कोई दूसरा आयेगा वो सांसद रहेगा।
             इसके बाद विधायक गौरीशंकर बिसेन व सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन के साथ उनके समर्थकों के बीच भी वैचारिक वाद-विवाद सोशल मीडिया से लेकर चर्चाओं में चलता रहा और भाजपाईयों की आपसी खींचतान खुलकर सामने आने लगी थी। इस मामले में बालाघाट सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन का कहना है कि बालाघाट में ज्यादा घाट ही घाट है इसलिये उसका नाम बालाघाट है लेकिन सिवनी के लोग भी सभी होशियार है।

वे मंत्री रहे है उन्हें मालूम है कि किस तरह से सरकारी खरीदी होती है


बालाघाट डॉ ढाल सिंह बिसेन का कहना है कि इस तरह की बाते करके विधायक गौरीशंकर बिसेन प्रधानमंत्री के ऊपर ऊंगली उठा रहे है। प्रधानमंत्री ने जेम पोर्टल से सर्वाधिक क्रय करने का निर्णय लिया है जेम के तहत खरीदी करने का कार्य प्रधानमंत्री ने तय किया है इसलिये जेम पार्टल के तहत खरीदी की जा रही है।
        जेम पोर्टल में खरीदी होने से जीएसटी लागू होता है जिससे सरकार को फायदा होता है। जबकि गौरीशंकर बिसेन ज्यादा अच्छे से जानते है क्योंकि उनका स्वयं का विभाग रहा है वे मंत्री रहे है उन्हें मालूम है कि किस तरह से सरकारी खरीदी होती है, इसके बाद भी उनके द्वारा इस तरह की बात करना प्रधानमंत्री की मंशा के खिलाफ है। 

मैंने जो फाईटर और यात्री प्रतिक्षालय दिया हूं उनकी सबकी गुणवत्ता ठीक है

सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि मैंने जो फाईटर और यात्री प्रतिक्षालय दिया हूं उनकी सबकी गुणवत्ता ठीक है। फाईटर में विशेषकर जीआईसी लगा हुआ है, वहीं फाईटर मैंने दिया हूं वाटर टेंकर के नाम से नहीं दिया है वहीं उसमें जो टायर लगे है उनको 20 साल कुछ नहीं होगा। बालाघाट जिले में मैंने फाईटर देने का कार्य प्रारंभ किया था तो हर पंचायत चाहती है कि उन्हें भी फाईटर मिले इसकी मांग बढ़ी इसके साथ साथ यात्री प्रतिक्षालय की मांग है।                 सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि वे तो सिर्फ चिठ्ठी लिखते है आर्डर देने का काम कलेक्टर होता है, जेम पार्टल में जो दर्ज होता है वही सप्लाई करता है उसका आर्डर कलेक्टर देता है। मैं कमीशन नहीं ले रहा हूं क्योंकि मैं सिर्फ चिठ्ठी लिखता हूं आर्डर कलेक्टर देता है एवं सप्लाई करने वाला सप्लाई करता है उसमें मैं कहां से बीच में आ गया, ये बात नहीं समझ आ रही है। वहीं यदि फाईटर टेंकर और यात्री प्रतिक्षालय की गुणवत्ता खराब है तो कलेक्टर उसकी जांच करा ले और अच्छे या खराब है तो उस पर कार्यवाही करें।

दिशा की महत्वपूर्ण बैठक में बालाघाट कलेक्टर मौजूद नहीं थे 

मैंने बालाघाट कलेक्टर को दिशा की बैठक को लेकर कहा था क्योंकि दिशा की बैठक का सचिव कलेक्टर होता है। पहले दिशा की बैठक 25 को थी लेकिन प्रशासन के कहने पर मैंने 24 को करने के लिये कहा था लेकिन मैं जब वहां दिशा की बैठक लेने गया तो वहां कलेक्टर बैठक में उपस्थित नहीं थे तब मैंने पूछा तो मुझे बताया गया कि कलेक्टर पेसा एक्ट के मामले में लॉंजी गये हुये है जबकि लाँजी में पेसा एक्ट लागू नहीं होता है तो वहां पर कलेक्टर क्यों गये थे ये समझ से परे है। दिशा की महत्वपूर्ण बैठक में बालाघाट कलेक्टर मौजूद नहीं थे मैंने इसके लिये मैंने चिठ्ठी कार्मिक एवं प्रशासनिक विभाग को लिख दिया है। दिशा के संबंध में हमसे प्रतिमाह जवाब मांगा जाता है। 

अब पार्टी जो भी एक्सन लेगी चाहे मेरे खिलाफ ले या उनके खिलाफ ले

यदि विधायक गौरीशंकर बिसेन के कहने के अनुसार यदि उन्होंने टिकिट दिलाई है तो उन्हें बड़प्पन भी रखना चाहिये। इसके साथ ही सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि आखिर कारण क्या है कि हर कोई उनको विरोधी ही क्यों नजर आता है। वहीं उनकी बेटी को टिकिट दिये जाने के सवाल पर सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि भाजपा में परिवारवाद नहीं चलता है।
                सार्वजनिक रूप से डांटना ठीक नहीं है आज बेटा भी चार लोगों के सामने पिता की नहीं सुनता है। विधायक गौरीशंकर बिसेन के द्वारा इस तरह से सार्वजनिक रूप से कहा जाना मुझे भी अंदर से कहीं न कहीं दु:ख है। मैंने इस संबंध में अपनी बात संगठन तक रख दिया हूं लेकिन त्वरित रूप से कोई जवाब मैंने नहीं दिया था क्योंकि हमारा विवाद बढ़ता है तो पार्टी को नुकसान है। अब पार्टी जो भी एक्सन लेगी चाहे मेरे खिलाफ ले या उनके खिलाफ ले यह पार्टी का निर्णय है। जहां सवाल है उनके कहने पर सांसद रहने या नहीं रहने का तो ये निर्णय पार्टी तय करती है कि किसको टिकिट देना या नहीं देना है।  

सचिव पर कार्यवाही नहीं करने के पीछे संरक्षण सीईओ का है

सांसद प्रतिनिधि दिलीप अग्रवाल के मामले में सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन ने कहा कि सचिव के मामले में दिलीप अग्रवाल की कोई गलती नहीं है। वर्तमान स्थिति में कुछ प्रशासनिक अधिकारियों की कार्यप्रणाली जनहित के लिये ठीक नहीं है, अधिकारी नहीं सुन रहे है।
                मैंने सीईओ को भी कहा कि आप साल भर से मेरे कहने पर कार्यवाही नहीं करते है और उनके कहने पर दो घंटे में कार्यवाही करते है। इस संबंध में लोकायुक्त में शिकायत की गई है। सचिव पर कार्यवाही नहीं करने के पीछे संरक्षण सीईओ का है। 


No comments:

Post a Comment

Translate